Saturday, July 16, 2011

मेरा बचपन ऐसे बीता ,,,,,,,,,,(भाग – 13)

 
{ श्रीमती सपना निगम की कलम से }
बचपन से ही गाँवों तथा ग्रामीण परम्पराओं के प्रति रुझान होने के कारण मुझे गाँवों में छुट्टियाँ व्यतीत करने में बहुत आनंद आता था. नानी के गाँव की ही बात है (इस गाँव का संक्षिप्त वर्णन भाग-12 में कर चुकी हूँ) किसी वृद्ध की मृत्यु हुई थी. सारे ग्रामीण मृतक के घर के सामने जमा होकर सांत्वना प्रकट कर रहे थे. गाँव के किनारे एक वृक्ष के नीचे दाह-संस्कार में सहयोग के उद्देश्य से हर घर से जलाऊ लकड़ियाँ और कण्डे जमा किये जा रहे थे. यह एक परम्परा के तहत हो रहा था.
सारी लकड़ियाँ और कण्डे एक बैलगाड़ी में रख कर श्मशान स्थल की ओर रवाना किये गये. दोपहर को वृद्ध की अर्थी काँधों पर उठाई गई और श्मशान ले जाने लगे. बीच-बीच में काँधे बदलते रहे. शव-यात्रा के आगे आगे बैंड बाजा वाले बैंड बजाते हुये चल रहे थे. यह दृश्य मेरे लिये बिल्कुल ही नया था . बाजे-गाजे के साथ शव यात्रा !! बाद में ज्ञात हुआ कि जो व्यक्ति अपनी पूरी जिंदगी (लगभग 90 वर्ष के आसपास) जीने के बाद मरता है तो उसे बैंडबाजे के साथ ससम्मान बिदा किया जाता है.
मृतक का दाह संस्कार हो जाने का समाचार आने के बाद मृतक के घर से महिलायें कतारबद्ध होकर गाँव के बाहर स्थित तालाब में नहाने के लिये निकलीं. इसे नहावन के लिये जाना कहा जाता है. एक के पीछे एक चलती हुई महिलाओं की लम्बी सी कतार. गाँवों में यह भी मान्यता है कि नहावन की इस कतार को क्रास या ओव्हर टेक नहीं किया जाता. यदि नहावन के लिये जाती हुई यह कतार किसी मुख्य मार्ग को पार कर रही होती है तो उस मार्ग का आवगमन तब तक स्व-स्फूर्त रुक जाता है जब तक कि कतार मार्ग को पूर्णत: पार नहीं कर लेती है. तालाब में नहाने के बाद ये महिलायें गीले कपड़े में ही पुन: कतारबद्ध होकर लौटीं.
नहावन की यह प्रक्रिया लगातार तीन दिनों (अस्थि-विसर्जन तक) चली. इन तीन दिनों तक मृतक के घर में चूल्हा नहीं जला . गाँव में उनके समाज वाले अपने-अपने घरों से खाना बना कर लाते रहे  और मृतक के परिजनों को खिलाते रहे. दसवें या तेरहवें दिन मृतक की आत्मा की शांति के लिये पूजा-पाठ सम्पन्न कर परिवार के ज्येष्ठ पुत्र के सिर पर साफा (पगड़ी की भाँति) बाँधकर उसे परिवार के मुखिया का दर्जा दिया गया और गाँव वालों को भोज कराया गया.
यह पोस्ट गाँव की बिल्कुल ही साधारण सी घटना पर लिखी गई है किंतु जरा सोचिये बड़े शहरों और महानगरों में जहाँ अर्थी को काँधे की बजाय वाहन पर ढोकर विद्युत शव गृहों में अंतिम संस्कार हेतु ले जाया जाता है , मृतक के परिजनों के पास सांत्वना प्रकट करने की महज औपचारिकतायें दो से पाँच मिनट में निपटाई जाती हैं ,क्या नई पीढ़ी के लिये ये परम्परायें और मान्यतायें आश्चर्यजनक नहीं होगी ? अपनी मान्यताओं और परम्पराओं को आश्चर्यजनक बना कर हम किस तरह की प्रगति कर रहे हैं ?????
-श्रीमती सपना निगम
आदित्य नगर ,
दुर्ग (छत्तीसगढ़)

19 comments:

  1. आधुनिकता की अंधी दौड़ हम परंपराओं की तिलांजलि दे रहे हैं।
    अच्छा संस्मरण।

    ReplyDelete
  2. आप का बलाँग मूझे पढ कर अच्छा लगा , मैं भी एक बलाँग खोली हू
    लिकं हैhttp://sarapyar.blogspot.com/

    आपको मेरी हार्दिक शुभकामनायें.

    अगर आपको love everbody का यह प्रयास पसंद आया हो, तो कृपया फॉलोअर बन कर हमारा उत्साह अवश्य बढ़ाएँ।
    --
    hai

    ReplyDelete
  3. परम्पराओं का अपना महत्व है।

    ReplyDelete
  4. बहुत अच्छा चल रहा है,
    साभार,
    विवेक जैन vivj2000.blogspot.com

    ReplyDelete
  5. सब समय के साथ साथ परिवर्तनशील है। वस्तुत:संवेदना अब रह कहां गई है। भाग दौड़ की जिंदगी ने सारा परिदृश्य बदल डाला है। बहुत ही बढ़िया चित्रण।

    ReplyDelete
  6. मुझे भी गाँव से बहुत लगाव है खासकर नानी के गाँव से ..आज की परिस्थिति में आप जैसे लोगों के मार्गदर्शन की सख्त आवश्यकता है

    ReplyDelete
  7. मुझे भी गाँव से बहुत लगाव है ओर मैं आज ही जोधपुर अपने गाँव जा रहा हू इसलिए मैं 8-10 दिन तक ब्लोगिंग से दूर रहूँगा ओर आपका संस्मरण बहुत अच्छा है आभार इस पोस्ट के लिए

    ReplyDelete
  8. शहर के लोग तो मशीन हो गए हैं, न संस्कार, न भावना, न व्यवहार, न परम्परा। यह सब आज भी गावों में जीवित है।

    ReplyDelete
  9. गाँवों की हर स्मृति से परंपरा की झलक मिल ही जाती है.

    ReplyDelete
  10. अपनी मान्यताओं और परम्पराओं को आश्चर्यजनक बना कर हम किस तरह की प्रगति कर रहे हैं.......

    बहुत ही सुन्दर एवं सार्थक लेखन के साथ विचारणीय प्रश्नर भी ...बढ़िया प्रस्तुति पर हार्दिक बधाई.

    ReplyDelete
  11. सुन्दर आलेख। अच्छी परम्परायें बनने में बहुत समय लगता है, मगर उन्हें तोड देना उतना ही आसान है।

    ReplyDelete
  12. विचारणीय लेख .....
    परम्पराओं और मान्यताओं पर प्रश्न चिन्ह .....

    ReplyDelete
  13. गांवों में आज भी आत्मीयता है , आपने गाँव की घटना का जीवंत चित्रण प्रस्तुत किया है . साधुवाद !

    ReplyDelete
  14. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  15. गाँव में आज भी आत्मीयता अपनत्व एवं स्नेह की भावना जीवंत है ..
    सच ही कहा आपने इन परम्पराओं का सम्बन्ध आत्मीयता से है ..एक ब्यक्ति जिसने अपने गाँव के स्नेह एवं सौहार्द्य पूर्ण वातावरण में निवास करते इन परम्पराओं का स्वयं निर्वाह किया हो उसकी अंतिम यात्रा में इस प्रकार की संस्कारित परम्पराओं के माध्यम से स्नेह एवं सम्मान प्रदर्शन किया ही जाता रहा है ..पर अब आधुनिकता की दौड धूप में कहाँ भूल आए हम अपनी आत्मीयता ...अत्यंत ही भाव पूर्ण प्रस्तुति ..साधुवाद !

    spdimri.blogspot.com

    ReplyDelete
  16. बहुत बढ़िया आलेख!
    गाँवों में परम्पराएँ भी हैं और भाईचारा व प्यार भी है!
    मगर शहरों में आजकल भागती हुई जिन्दगी और व्यस्तताओं के कारण आदमी परम्पराओं को भूल गया है!

    ReplyDelete
  17. भावुक करती हुयी पोस्ट ! आधुनिकता हमें संवेदनहीन भी बना रही है.

    ReplyDelete
  18. parampara yahi hai jo aaj bhi log nibhate hain kahin kam kahin jayada
    rachana

    ReplyDelete
  19. Bahut badhiyaa aalekh.. Bhavanaon se paripurna rachna ke liye Badhai...

    ReplyDelete