Thursday, November 3, 2011

बेटी बचाओ अभियान (गीत – 3)


 
आन  बान  और शान है  बेटी
गीता  और  कुरान  है   बेटी.
गर्व  करें   अपनी   बेटी  पर
जन गण मन का गान है बेटी.

बेटे    जैसा    खूब    पढ़ायें
नव-युग का आह्वान  है  बेटी.
बेटी  मिली -  भाग्य  सहरायें
ईश्वर  का  वरदान  है   बेटी.

थकी हुई बोझिल- सी माँ के
अधरों की  मुस्कान  है बेटी
जीवन की हर धूप - छाँव में
सुख-दु:ख की पहचान है बेटी.

कभी  कलाई  सूनी  ना  हो
भाई  का  सम्मान  है  बेटी.
सुख का रस जीवन में घोले
माता-पिता की जान है बेटी.

दुर्गा , लक्ष्मी, सरस्वती – सी
सचमुच  शक्तिमान है  बेटी.
लाख  यज्ञ का  पुण्य दिलाये
ऐसा   कन्यादान   है   बेटी.

रचनाकार - अरुण कुमार निगम 


प्रस्तुतकर्ता - 

श्रीमती सपना निगम
आदित्य नगर , दुर्ग
छत्तीसगढ़.

34 comments:

  1. bahut umda likha hai beti ke vishya me kaash sabhi ki soch yesi ho.

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर भाव संजोये हैं।

    ReplyDelete
  3. बहुत ही बढि़या लिखा है आपने ... ।

    ReplyDelete
  4. आज 03 - 11 2011 को आपकी पोस्ट की चर्चा यहाँ भी है .....


    ...आज के कुछ खास चिट्ठे ...आपकी नज़र .तेताला पर
    _____________________________

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर भाव ..हर घर का अभिमान है बेटी

    ReplyDelete
  6. बहुत सुंदर भावपूर्ण रचना बेटी का जीवन बचाओ मानव दुनिया में कहलाओ ....

    ReplyDelete
  7. मैं आपके इस कविता के एक-एक शब्द से सहमत हूं।

    ReplyDelete
  8. Bahut hi lajawab ... Sach poocho to beti se hi ghar ghar banta hai ... Shubhkaamnaayen ...

    ReplyDelete
  9. सुंदर भावपूर्ण रचना बेटी बचाओ.

    ReplyDelete
  10. बेटे जैसा खूब पढ़ायें
    नव-युग का आह्वान है बेटी.
    बेटी मिली - भाग्य सहरायें
    ईश्वर का वरदान है बेटी.

    इस गीत के माध्यम से बहुत सुंदर आवाहन किया है आपने।

    बेटी सचमुच ईश्वर का वरदान है।

    ReplyDelete
  11. बहुत ही सुन्दर गीत/सुन्दर आवाहन...
    सादर बधाई/आभार...

    ReplyDelete
  12. दुर्गा , लक्ष्मी, सरस्वती – सी
    सचमुच शक्तिमान है बेटी.
    लाख यज्ञ का पुण्य दिलाये
    ऐसा कन्यादान है बेटी.

    बहुत ही सच्ची और अच्छी पंक्तियाँ।

    सादर

    ReplyDelete
  13. खूबसूरत पंक्तियाँ बधाई

    ReplyDelete
  14. कल 07/11/2011को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  15. wahh
    bahut hi sundar rachana hai...

    ReplyDelete
  16. bahut sunder .........betian anmol hoti hai .


    maine bhi anmol bhet betiyan likhi hai aap mere blog par padh sakte hai shayad pasand aye .

    http/sapne-shashi.blogspot.com

    ReplyDelete
  17. आन बान और शान है बेटी
    गीता और कुरान है बेटी.
    गर्व करें अपनी बेटी पर
    जन गण मन का गान है बेटी.

    बेटे जैसा खूब पढ़ायें
    नव-युग का आह्वान है बेटी.
    बेटी मिली - भाग्य सहरायें
    ईश्वर का वरदान है बेटी.

    थकी हुई बोझिल- सी माँ के
    अधरों की मुस्कान है बेटी
    जीवन की हर धूप - छाँव में
    सुख-दु:ख की पहचान है बेटी.

    कभी कलाई सूनी ना हो
    भाई का सम्मान है बेटी.
    सुख का रस जीवन में घोले
    माता-पिता की जान है बेटी.

    दुर्गा , लक्ष्मी, सरस्वती – सी
    सचमुच शक्तिमान है बेटी.
    लाख यज्ञ का पुण्य दिलाये
    ऐसा कन्यादान है बेटी.




    बहुत सुंदर रचना है सपना जी


    समय निकाल कर मेरी इस पोस्ट को भी देखिएगा , और अपनी बहुमूल्य प्रतिक्रिया से धन्य कीजिएगा …

    भोली निश्छल प्यारी बेटी



    मंगलकामनाएं …
    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  18. सरल सुंदर शब्दों लिखी बेहतरीन रचना मुझे बहुत ही अच्छी लगी...
    मेरे नए पोस्ट "वजूद"में स्वागत है जिसमे मैंने बेटियों के लिए लिखा है ...

    ReplyDelete
  19. कभी कलाई सूनी ना हो
    भाई का सम्मान है बेटी.
    सुख का रस जीवन में घोले
    माता-पिता की जान है बेटी.

    अच्छी और सच्ची रचना

    ReplyDelete
  20. बहुत अच्छी प्रस्तुति। हार्दिक शुभकामनाएं!

    ReplyDelete
  21. .

    आभार …

    @ बेटी पर रचना दिखाई नहीं दी है.

    किसी गलती से लिंक सही नहीं लिखा गया , मैंने भी अभी देखा ।
    आप इस लिंक से देखें ,रचना

    # आप इस लिंक से देखें ,रचना "बेटी"

    http://shabdswarrang.blogspot.com/2010/10/blog-post_28.html

    ReplyDelete
  22. आपकी प्रस्तुति

    सोमवारीय चर्चा-मंच पर

    charchamanch.blogspot.com

    ReplyDelete
  23. कभी कलाई सूनी ना हो
    भाई का सम्मान है बेटी.
    सुख का रस जीवन में घोले
    माता-पिता की जान है बेटी.

    बहुत सुन्दर कविता...सादर बधाई|

    ReplyDelete
  24. बहुत अच्छी प्रस्तुति। हार्दिक शुभकामनाएं!..

    ReplyDelete
  25. आप की पोस्ट ब्लोगर्स मीट वीकली (१८) के मंच पर शामिल की गई है/.आप आइये और अपने विचारों से हमें अवगत करिए /आप हिंदी की सेवा इसी तरह करते रहें यही कामना है /आपका
    ब्लोगर्स मीट वीकली के मंच पर स्वागत है /आइये /आभार /
    '

    ReplyDelete
  26. बधाई..इस सोच के लिए..इस कविता के लिए

    ReplyDelete
  27. सरल सुंदर शब्दों लिखी बेहतरीन रचना मुझे बहुत ही अच्छी लगी...
    मेरे नए पोस्ट "वजूद"में स्वागत है जिसमे मैंने बेटियों के लिए लिखा है

    ReplyDelete
  28. सरल सुंदर शब्दों लिखी बेहतरीन रचना मुझे बहुत ही अच्छी लगी...
    मेरे नए पोस्ट "वजूद"में स्वागत है जिसमे मैंने बेटियों के लिए लिखा है

    ReplyDelete
  29. सरल सुंदर शब्दों लिखी बेहतरीन रचना मुझे बहुत ही अच्छी लगी...
    मेरे नए पोस्ट "वजूद"में स्वागत है जिसमे मैंने बेटियों के लिए लिखा है

    ReplyDelete