Tuesday, December 27, 2011

“नन्हीं सी आशा.”


बिटिया मेरे जीवन की नन्हीं – सी आशा
वात्सल्य - गोरस  में  डूबा हुआ  बताशा.

तुतली बोली , डगमग चलना और शरारत
नया -नया नित दिखलाती है खेल-तमाशा.

पल में रूठे – माने, पल में रोये – हँस दे
बिटिया का गुस्सा है ,रत्ती- तोला- माशा.

दिनभर दफ्तर में थककर जब घर मैं आऊँ
देख मुझे  मुस्काकर  कर दे  दूर हताशा.

सुख -दु:ख दोनों धूप -छाँव से आते –जाते
ठहर न पाई इस आंगन में कभी निराशा.

जिस घर भी ले जन्म स्वर्ग-सा उसे सजा दे
अपने  हाथों  ब्रम्हा जी ने  इसे  तराशा.


अरुण कुमार निगम
आदित्य नगर , दुर्ग ( छत्तीसगढ़ )
विजय नगर , जबलपुर ( मध्य प्रदेश )

20 comments:

  1. आपके इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा कल दिनांक 28-12-2011 को चर्चा मंच पर भी होगी। सूचनार्थ

    ReplyDelete
  2. बहुत सुंदर प्रभावशाली रचना ...

    ReplyDelete
  3. नन्हीं सी आशा हमेशा बनी रहे ..सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  4. नन्नी नहीं खासी बड़ी है यह आशा ,बढ़ा देती जीवन प्रत्याशा .

    ReplyDelete
  5. वाह ...बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर मनभावन बाल स्वरुप का चित्रण..बच्चे मन मोह लेते है ,प्रतिपल जीने की उमंग भर देते हैं अपने मासूम अंदाज़ से ..
    kalmdaan.blogspot.com

    ReplyDelete
  7. आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल बृहस्पतिवार 29 -12 - 2011 को यहाँ भी है

    ...नयी पुरानी हलचल में आज... जल कर ढहना कहाँ रुका है ?

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर...
    बधाई.

    ReplyDelete
  9. betiya to hoti hi pyari hai...
    betiyo par bahut hi sundar rachana ki hai apne....

    ReplyDelete
  10. बहुत ही सुन्दर और खूबसूरत एहसास हैं ...

    ReplyDelete
  11. बिटिया जेसा तो कोई भी नहीं ...पर लोग कहाँ समझते हैं

    ReplyDelete
  12. वात्सल्य - गोरस में डूबा हुआ बताशा
    रत्ती- तोला- माशा.
    और
    अपने हाथों ब्रम्हा जी ने इसे तराशा

    कम्माल है भाई जी कम्माल, आनंद मिला इसे पढ़ कर

    ReplyDelete
  13. जिस घर भी ले जन्म स्वर्ग-सा उसे सजा दे
    अपने हाथों ब्रम्हा जी ने इसे तराशा.

    बहुत सुंदर !!

    ReplyDelete
  14. बहुत ही प्यारी पंक्तियाँ, बिटिया जैसी..

    ReplyDelete
  15. sach, bitiya ka ehsas hi bahut madhur hota hai. bahut hi achchhi kavita....... sunder prastuti.

    ReplyDelete